हिंदी मुहावरे और अर्थ – हिंदी व्याकरण

हिंदी मुहावरे और अर्थ (Hindi Muhavare aur Arth ) की हमारे जीवन में बहुत उपयोगिता है, उसके साथ ही साथ ये हर उस परीक्षा में जरूर पुछा जाता है जिस परीक्षा में हिंदी व्याकरण होता है, इसलिए इसको इतना आसान और बेकार मत समझे।
इसको अच्छे से जरूर पढ़ें ये आपका नंबर बढ़ाने में मददगार होगा।

हिंदी मुहावरे और अर्थ (Hindi Muhavare aur Arth )

1- सब्जबाग दिखाना – प्रलोभन देना
2- नाक का बाल होना – अत्यंत प्रिय होना
3- उड़ती चिड़िया के पंख गिनना / चाँद पर थूकना – असंभव काम करना
4- घुटने टेकना – हार मान लेना
5- जूतम पैजार – लड़ाई झगड़ा होना
6- आकाश से बातें करना – अभिमान करना
7- हाथ पेअर मारना – असफल प्रयत्न करना
8- मुट्ठी गरम करना – रिश्वत देना
9- कान भरना – चुँगली करना
10- चांदी के जूते मारना – रूपये पैसे का लालच देना
11- पौ बारह होना – लाभ होना
12- चांदी काटना – खूब लाभ कामना
13- घाट घाट का पानी पीना – गुम फिर कर अनुभव प्राप्त करना
14- पापड़ बेलना – काफी मुसीबत सहना
15- गाल बजाना – बकवास करना
16- आँख का तारा होना – अत्यंत प्रिय होना
17- तेली का बैल होना – हर समय काम में लगे रहना
18- गोटी बैठाना – युक्ति सफल होना
19- चकमा देना – भाग जाना
20- कलम तोडना – बहुत अच्छा लिखना
21- उलटी माला फेरना – अहित सोचना
22- माथे पर बल पड़ना – परेशान होना
23- पेट में दाढ़ी उगना – कम उम्र में अनुभवी होना
24- हाथ पर सरसो उगाना – असंभव कार्य करना
25- कुँए में बांस डालना – अवरोध उत्पन्न करना
26- उलटे बांस बरेली को – विपरीत कार्य करना
27- नीम हकीम खतरे जान – अल्पज्ञ से हमेशा खतरे का भय रहता है
28- हजामत बनाना – खूब पीटना
29- घड़ों पानी पड़ना – शर्मिंदा होना
30- जिन खोजै तीन पाइयाँ गहरे पानी पैठ – कठिन परिश्रम से सफलता मिलती है
31- एक थैली के चट्टे बट्टे होना – सामान स्वाभाव और आदत वाले
32- थाली का बैगन होना – अस्थिर चित्त का व्यक्ति
33- दिन रात एक करना – लगातार प्रयास करते रहना
34- गाढ़े का साथी – असमय का सहयोगी
35- चुल्लू भर पानी में डूब मरना – शर्म के मारे मुहं न दिखाना
36- जंगल में मोर नाचा किसने देखा – अनुपयुक्त स्थान में गुड़ दिखाना
37- कहते में पड़ना – कुछ निर्णय न हो सकना
38- रंगा सियार – कपटी

Also Read:- Gk of Hindi Grammar

39- कलई खुलना – भेद प्रकट करना
40- ओखली में सर देना – जान बूझकर संकट मोल लेना
41- बाएं हाथ का खेल – बहुत आसान काम
42- का बरसा जब कृषि सुखानी – मौका बीत जाने पर कार्य करना व्यर्थ है
43- घूरे के दिन फिरना – गरीबी की स्थिति में सुधारहोना
44- नाक रगड़ना – विनती करना
45- घर करना – पूरी तरह रच-बस जाना
46- बहती गंगा में हाथ धुलना – अवसर का लाभ उठाना
47- हाथ का मैल – अत्यंत तुच्छ वस्तु
48- अंगूठा चूमना – खुशामत करना
49- फिसल पड़े तो हर हर गंगे – मजबूरी में काम करना
50- पानी पीकर जात पूछना – काम करने के बाद भले बुरे का विचार करना
51-नई जमीन तोडना – अनूठा प्रयोग
52- सोने में सुगंध – सूंदर वस्तु में और गुड़ होना
53- नौ दो ग्यारह होना – भाग जाना
54- आस्तीन का सांप – विश्वासघाती मित्र
55- अपनी करनी पार उतरनी – अपने कर्म का फल स्वयंम भुगतना पड़ता है
56- अपने पावं आप कुल्हाड़ी मारना – अपना नुक्सान स्वयंम करना
57- सिर फिर जाना – पागल हो जाना
58- मुहं से मुहं मिलाना – हाँ में हाँ मिलाना
59- मुहं खुलना – उद्दण्ता पूर्वक बातें करना
60- हाथ धोकर पीछे पड़ना – जी जान से लग जाना
61- अक्ल के घोड़े दौड़ना – कल्पनाएं करना
62- आग में कूद पड़ना – खतरा मोल लेना
63- दम में दम आना – राहत होना
64- टेढ़ी खीर – कठिन काम
65- डूबते को तिनके सहारा – संकट में पड़े को थोड़ी मदद
66- रंग में भंग होना – आनंद में विघ्न पड़ना
67- कर्ण का दान – महादान
68- समुद्र मंथन करना – कठोर परिश्रम करना
69- शैतान की आंत – बहुत लम्बी वस्तु
70- चुल्लू भर पानी में डूबना – बहुत अधिक लज्जित होना
71- टिप्पस लगाना – सिफारिस करना
72- जौहर खुलना – भेद का पता लगना
73- काँटा बोना – हानि पहुंचना
74- आधा तीतर आधा बटेर – बेमेल तथा बेढंगा
75- नाक पर सुपारी तोडना – बहुत परेशान करना
76- कूप मंडूक होना – अत्यंत सीमित ज्ञान होना
77- भीष्म प्रतिज्ञा – ढृढ़ प्रतिज्ञा
78- हाथ को हाथ न सूझना – घना अँधेरा होना

दोस्तों उम्मीद करता हूँ, हिंदी मुहावरे और अर्थ (Hindi Muhavare aur Arth ) पोस्ट आपका अच्छा लगा होगा इसको कृपया अपने दोस्तों को भी शेयर करें।