Cid Ka Full Form – Educational Dose

नमस्ते दोस्तों कैसे हैं आप, एक बार फिर से स्वागत आपका Educational Dose के इस नये पोस्ट में आज आप पढेंगे की Cid Ka Full Form क्या होता हैं ? और हम किस तरह से Cid की पोस्ट को हासिल कर सकते है ? और Cid का क्या काम होता हैं ? इस पोस्ट को आप ध्यान से पढिएगा तो चलिए शुरू करते है |

Cid Ka Full Form

CRIME INVESTIGATION DEPARTMENT हैं | Cid का फुल फॉर्म हिंदी में अपराध जांच विभाग हैं | भारतीय राज्य पुलिस की एक जांच और खुफिया शाखा Cid है | यह पुलिस संगठन का सबसे महत्वपूर्ण विभाग है और इसकी देखरेख पुलिस महानिदेशक ( ADGP ) करते है | Cid राज्य स्तर के मामलो की जांच करती है | व्रिटिश सरकार द्वारा 1902 में पुलिस आयोग के सिफ़ारिशो के आधार पर CID को बनाया गया था |

CID Branches

पुणे में CID का मुख्यालय है | CID की कई सारी शाखाए है जैसे –

  • CB- CID
  • Dog Squad
  • Bank Fradus
  • Finger Print Bureau
  • Missing Person Cell
  • Anti Terrorism Wing
  • Human Rights Departman
  • Anti Narcotics Cell
  • Anti Human Trafficking etc.

CID क्या करता हैं ?

CID का मुख्य कार्य चोरी, डकैती, बलात्कार, हत्या आदि जैसे मामलो की जांच करना है | यह सबूत को इकठ्ठा कर अपराधियों को पकड़ता हैं और आरोपी को अदालत के सामने सबूत के साथ पेश करता है | अपराध के आधार पर ये जांच कई राज्यों एवं शहरो में फ़ैल सकती हैं और इन मामलो की जांच के लिए CID वह की स्थानीय पुलिस तीन की मदद भी लेती है |

Cid अधिकारी बनने के लिए पात्रता मानदंड

  • भारत का नागरिक होना उम्मीदवार के लिए आवश्यक है |
  • CID में एक सब इंस्पेक्टर या अधिकारी के रूप में शामिल होने के लिए उम्मीदवार की योग्यता कम से कम किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक होना अनिवार्य है |
  • CID में एक कांस्टेबल के रूप में शामिल होने के लिए उम्मीदवार के पास एक अतिसूक्ष्म योग्यता 12वीं या 10 वीं होना चाहिए|
  • CID अधिकारी बनने के लिए सिर्फ योग्यता ही नहीं बल्कि , भारतीय सिविल सेवा परीक्षा जो कि संघ लोक सेवा आयोग द्वारा हर साल आयोजित की जाती है यह उत्तीर्ण होनी चाहिए|
  • इसके बाद उम्मीदवार के पास तेज आँखे ,चरित्र का अच्छा निर्णय, एक टीम में काम करने की क्षमता,अकेले कार्य करने की क्षमता एवं एक उत्तम स्मृति होनी चाहिये जो की इस पोस्ट के लिए मूलभूत आवश्यकताए हैं |

भारत में कई विश्वविद्यालय ऐसे है जो ग्रेजुएशन स्तर पर अपराध विज्ञानं में पाठ्यक्रम प्रदान करते हैं | Cid में शामिल होने के लिए ये पाठ्यक्रम आपकी मदद कर सकते हैं

CID में विभिन्न पद है |

  • उप – निरीक्षक (SUB Inspector )
  • निरीक्षको ( Inspectors )
  • अधिक्षको ( Superintendents )
  • अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक ( Additinal Director General of Police )
  • पुलिस महानिरीक्षक ( IGP ) इत्यादि |

CID Officer कैसे बने ?

जब आप ग्रेजुएशन कम्पलीट कर लेते है तब सबसे पहले CID ऑफिसर बनने के लिए Police या Para Military Force को ज्वाइन करना बहुत ही आवश्यक हैं | उसके बाद जब आप अपना कार्य करते हुए अच्छी परफारमेंस पर पहुँच जांते हैं तब आपको CID की टीम में सेलेक्ट कर लिया जाता हैं |

CID अधिकारी की सैलरी

जैसा की ऊपर मैंने आपको बताया की CID विभाग की कई सारी शाखाये है और इन्ही कुछ शाखाओ के आधार पर CID अधिकारियो को सैलरी दी जाती है |
कुछ शाखाओ की सैलरी कम और कुछ शाखाओ की सैलरी ज्यादा होती है इसलिए हम पूर्ण रूप से इसकी सैलरी नहीं बता सकते है | यदि हम इसकी औश्तन सैलरी की बात करे तो cid विभाग में आपको 70000 से लेकर 105000 रुपये तक की सैलरी दी जाती है |

CID काम कैसे करती है ?

Cid पुलिस का एक ख़ुफ़िया विभाग होता हैं | इस विभाग में काम करने वाले सभी ऑफिसर कोई ख़ास तरह का यूनिफार्म न पहन कर एक सादा यूनिफार्म पहनते हैं और हर मामले को सोल्व करते हैं और वो ऐसा इसलिए करते हैं ताकि वो किसी की पहचान में न आ सके और वो अपना काम बखूबी कर सके और किसी भी तरह के क्राइम का पर्दाफाश कर सके |

Cid और Cbi में अंतर

  • Cid के कार्य करने का क्षेत्र एक राज्य ही होता है पर Cbi के कार्य करने का क्षेत्र पूरे भारत में एवं विदेशो में भी होता है |
  • Cid के पास जो मामले आते है उनकी जिम्मेदारी राज्य सरकार एवं हाई- कोर्ट के द्वारा सौंपा जाता है कित्नु Cbi के पास जो मामले आते हैं उनकी जिम्मेदारी केद्र सरकार ,हाई-कोर्ट एवं सर्वोच्च न्यायालय के द्वारा सौंपा जाता है |
  • यदि किसी व्यक्ति को Cid में शामिल होने के लिए उसे राज्य सरकार द्वारा आयोजित की जाने वाली पुलिस परीक्षा पास करना होता है और उसके बाद अपराध-विज्ञान की परीक्षा पास करनी होती है जबकि Cbi में शामिल होने के लिए SSC बोर्ड द्वारा आयोजित परीक्षा को पास करना होता है |
  • ब्रिटिश सरकार के द्वारा 1902 में Cid की स्थापना की गई जबकि सीबीआई की स्थापना 1941 में गई |
  • Cid किसी राज्य के अंदर रहकर हत्या,चोरी, डकेती,रेप जैसे मामलो की छानबीन करते हुए सुलझाती है जबकि Cbi घोटालो एवं धोकधडी की जांच बड़े पैमाने नेशनल एवं इंटरनेशनल लेवल पर करती है |

मुझे आशा है दोस्तों की आप को आज का ये पोस्ट Cid Ka Full Form पसंद आया होगा | यदि आपको मेरा यह पोस्ट अच्छा लगा है, और इससे आपको कुछ जानने को मिला है, और लगता है यह जानकारी अन्य लोगो को भी मिलनी चाहिये तो इसे आप Social Media पर जरूर Share कीजिये जिससे इसकी जानकारी और भी लोगो को मिले और वो भी जाने Cid Ke के बारे में….


यदि आपके मन में कोई सवाल है मेरी इस पोस्ट Cid Ka Full Form से तो comment करके जरूर बताये मै उसका जवाब देने की पूरी कोशिश करूंगा …

ALSO READ

एटीएम का फुल फॉर्म