Cow Essay in Hindi – Educational Dose

दोस्तों आज के इस पोस्ट Cow Essay in Hindi में हम आप के लिए गाय के निबंध को लेकर आये है| ये जानकारी आप के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होने वाली है

Cow Essay in Hindi

गाय पर छोटे – बड़े निबंध

१ निबंध (३०० शब्द )(1 Essay 300 Words)

भूमिका

  • भारत में गाय को माता का दर्ज दिया जाता है | गाय एक पालतु पशु है और भी बहुत जानवर है | लेकिन उन सब में गाय का सर्वोच्च स्थान है भारता में प्रचीन कॉल से ही गौ माता को देवी के दृश्य मन जाता है |हर मंगल कार्य में गाय के दूध से बनी चीजों का प्रयोग किया जाता है, यहाँ तक की गाय के उत्सर्जी पदार्थ जैसे – गोबर, मूत्र का भी इस्तेमाल होता है| जिसे पंचगव्य (दूध, दही, घी, गोबर, मूत्र ) कि उपमा दी जाती है इन तत्वों का दवाओं में बहुत महत्व है बहुत सारे दवाओं में घी और मूत्र का इस्तेमाल किया जाता है

गाय की संरचना

  • गाय के शारीरिक संरचना के बारे में गाय के दो सींग होते है गाय के सींग का आकार सामान्यत: पिरामिड जैसा होता है यह शक्तिशाली एंटीना के रूप में काम करता है | सींगो के मदद से गाय आकाशीय ऊर्जाओं को शरीर में संचित कर लेती है | यह ऊर्जा हमे गोमूत्र , दूध और गोबर के द्वारा मिलती है |गाय के चार पैर, होते है, दो कान, दो नथुने, चार थन और एक बड़ी पूंछ होती है | गाय के खुर उनके चलने में मदद करती है उनके खुर जाते का काम करते है और चोट और झटका आदि से बचाते है गाय की प्रजातियों पूरे विश्व भर में पायी जाती है कुछ प्रजाति में सींग नहीं दिखाई देते है लेकिन कुछ में दिखाई देते है दुग्ध उत्पादन में भारत का समुच विश्व में पहला स्थान है गाय का दूध बेहद लाभदायक होता है

उपसंहार

गाय की कई प्रजातियॉ भारत में पाये जाती है | मुख्य नस्लों में ‘सहिवाल’ पंजाब हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश और बिहार के क्षेत्रों में मिलते है ‘गिरे’ ‘थारपारकर’ राजस्थान के जोधपुर, जैसलमेर और कुछ इलाकों में देवीने प्रजाति आंध्र प्रदेश में ‘नागौर’ राजस्थान में नागौर जिले में ‘सीरी’ में सिक्किम और दार्जिलिंग के पर्वतीय प्रदेश में ‘नीमाडी’ मध्य प्रदेश में मेवाती प्रजाति (हरियाणा) ‘हल्लीकर’ प्रजाति (कर्नाटक) ‘भगनारी’ प्रजाति (पंजाब), ‘कंगायम’ प्रजाति (तमिलनाडु) ‘मावली’ प्रजाति (मध्यप्रदेश) (केरल) ‘कृष्णाबेली’ प्रजाति (महाराष्ट्र, आंध्रप्रदेश ) में पाये जाते है |

निबंध २ (४०० शब्द में )

प्रस्तावना

गाय का दूध बहुत पौष्टिक होता है नवजात शिशु ,जिसे कुछ भी देना मना होता है, उसे गाय का दूध ही देने की डॉक्टर सलाह देते हैं

शिशु से लेकर वृद्धावस्था तक हर उम्र के लोगो को गाय के दूध का सेवन करना चाहिए| बहुत से रोगों से लड़ने की ये हमे ताकत देता है | छोटे बच्चों और बीमार लोगो को अक्सर गाय का दूध पीने की सलाह दी जाती है |

उपयोगता

वैज्ञानिक भी इसके गुणों का बखान करते हैं केवल दूध ही नहीं,इसके दूध से बने अन्य उत्पाद जैसे दही, मक्खन, पनीर, छाछ सभी डेरी उत्पाद लाभदायक होते है | जहाँ पनीर खाने से प्रोटीन मिलता है | वही गाय का घी खाने से ताकत मिलता है | आयुर्वेदिक में इसका महत्व बहुत है | अगर किसी को अनिद्रा की शिकायत हो तो नाक में घी का दो – दो बूंद डालने से यह बीमार खत्म हो जाती है साथ ही यदि पैर के तलुओं में घी को लगा कर सोया जाये तो अच्छी नींद आते है |

Also Read:- Republic Day Essay in Hindi

गाय का घी का धार्मिक महत्व है इससे हवन – पूजा आदि किया जाते है और उनके पीछे वैज्ञानिक का हाथ है | जब गाय के घी और चावल को हवन कुंड में डाला जाता है तो जो अग्नि कुंड से निकलने वाली गैस बहुत ही लाभकदायक होती है गाय के घी में रेडियोधर्मी गैस को अवशोषित करने की अदभुत क्षमता अधिक है

उपसंहार

  • गाय को ग्रामीण अर्थव्यवस्था की रीढ़ की हड्डी माना जाता है जैसे हमारे देश के लिए गावों का महत्व है, इस प्रकार गावों के लिए गाय का भी बहुत महत्व है कुछ वर्षो से गायों पर समस्या बढ़ गयी हैं इसका प्रमुख कारण-प्लास्टिक हैं।

दोस्तों हमारे इस पोस्ट Cow Essay in Hindi को पढ़कर आप को काफी जानकारी प्राप्त हुई होगी आशा करती हूँ आप इस पोस्ट को आप अपने दोस्तों और जानने वालो को जरूर शेयर करेंगे और मेरे इस गाय के निबंध मे कोई त्रुटि हो या कोई जानकारी आप को अच्छी लगी हो तो प्लीज कमेंट करना न भूले |