My Mother Essay In Hindi Educational Dose

नमस्ते दोस्तों कैसे हैं आप सब, एक बार फिर से स्वागत आप सबका Educational Dose के इस नये पोस्ट My Mother Essay In Hindi में , आज हम अपनी प्यारी माँ के बारे में पढेंगे क्योकि हमारे इस जीवन का अस्तित्व हमारी प्यारी माँ से ही है तो दोस्तों हमारे इस पोस्ट My Mother Essay In Hindi को आप सब ध्यान से पढिएगा तो चलिए शुरू करते है |

माँ :-

प्रस्तावना :-

माँ एक ऐसा शब्द है जिसके बिना हमारे जीवन का कोई अस्तित्व ही नहीं है हमारे जीवन की पूर्ति माँ से ही होती है | माँ के बिना हम जन्म ही नहीं ले सकते हमारे जीवन की पहली गुरु माँ ही होती है जो हमे चलना, बैठना, उठना, दौड़ना,बोलना आदि सिखाती है वो ही है जिसका अमृत जैसा दूध पीकर हम बड़े और शक्तिशाली बनते है | माँ वह है जो हमे जन्म देती है इसलिए संसार की हर जीवनदायनी वस्तु को माँ की संज्ञा दी गई है हमारे जीवन के शुरुआती समय में कोई हमारा साथी होता है तो वह हमारी माँ ही है | माँ ही हमे हर संकट की घडी से बाहर निकालती है और हमे पता भी नहीं चलता| इसी कारण हमारे जीवन में माँ के महत्व को कभी भुलाया नहीं जा सकता |


“” माँग लूँ यह दुआ की फिर यही
जहाँ मिले,
फिर वही गोद मिले फिर वही
माँ मिले |””


हमारे जीवन में माँ का महत्व :-

माँ एक ऐसा अनमोल शब्द है जिसके बारे में जितनी भी बाते की जाए कम ही हैं | माँ के महानता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है की इंसान एक बार भगवान् का नाम लेना भूल सकता है और भगवान् को भी भूल सकता है परन्तु उस जीवनदायनी माँ का नाम लेना कभी नहीं भूल सकता |

मेरी माँ मेरे लिए भगवान् से भी बढ़कर है और माँ को करुणा व प्रेम का प्रतिक माना गया है \ मेरी माँ ने मुझे बहुत ही कष्ट सहकर पाला है और उसने मुझे अपनी चिंता न करते हुआ अच्छी से अच्छी सुविधाएं दी है माँ ने मेरी हर वो खवाइश पूरी की है जो मैंने अपनी माँ से माँगा भी नहीं था | मेरी माँ ने खुद भुकी रहकर मेरा पेट भरा है|

मेरी माँ मेरी सफलता के लिए भगवान से प्रतिदिन प्रार्थना करती है एक भी दिन मेरी माँ मेरे बिना नहीं रह सकती | इस दुनिया में सबसे पहले माँ को ही पूजा जाता है ईश्वर हमसे भले ही रुष्ट हो जाए पर हमारी माँ हमसे कभी रुष्ट नहीं हो सकती | यही कारण है की इस दुनिया में माँ के इस रिश्ते को अन्य सभी रिश्तो से ऊपर और अनमोल माना गया है |

उपसंहार :-

माँ शब्द सिर्फ कहने के लिए एक शब्द का हो सकता है पर इस शब्द में पूरा संसार समाया है हर व्यक्ति की जीवन में सबसे अहम् किरदार सिर्फ उसकी माँ का ही होता है जब बच्चा पैदा होता है तो कुछ दिन बाद उस बच्चे के मुख से एक ही शब्द सबसे पहले निकलता हैं और वो शब्द है “माँ “

हमारे जीवन की पहली गुरु हमारी माँ ही होती है और सही गलत में अंतर माँ ही बताती है माँ ही हमे सबसे ज्यादा प्यार करती हैं माँ ईश्वर का दूसरा रूप होती है अपनी माँ का कहना जो इंसान मानता है वो सच में कामयाब हो जाता है |
जीवन में आप कितना भी आगे बढ़ जाओ कितनी भी तरक्की क्यूँ ना पा लो कितना भी पैसा कमा लो लेकिन अगर माँ खुश नहीं हैं तो आपकी हर कामयाबी व्यर्थ है आपका कमाई हर दौलत रददी है |

“‘ ईश्वर का दूसरा रूप हैं माँ
ममता की गहरी झील है माँ
वो घर किसी स्वर्ग से कम नहीं
जिस घर में ईश्वर की तरह पूजी जाती है माँ “”

मेरी प्यारी माँ के लिए दो लाइन :-

माँ आपने मुझे जनम दिया खुद की जान को खतरे में डाल कर इस दुनिया में लाया हैं ये क़र्ज़ मै कभी भी नहीं उतार सकता माँ ,मेरी वजह से कभी आपकी आँखों में आँशु आने नहीं दूंगा ,माँ जिस तरह आप मेरे सारे दुःख दूर करती हो उसी तरह आपके दुखो को मै भी दूर करना चाहता हूँ | मै आपके लिए यमराज से भी लड़ जाऊंगा मेरी प्यारी माँ |

माँ मुझे अँधेरे से बहुत डर लगता है पर जब आप साथ होती हो तो मुझे बिलकुल भी डर नहीं लगता | माँ मै आपसे बहुत प्यार करता हूँ और आपके लिए दुनिया की हर ख़ुशी को आपके चरणों में रख दूँगा |
आपका बहुत- बहुत धन्यवाद… मेरी प्यारी माँ मुझे इस संसार में लाने के लिए


आपको कोटि कोटि नमन …..


मुझे आशा है दोस्तों की आप सब को आज का ये पोस्ट My Mother Essay In Hindi पसंद आया होगा | यदि आपको मेरा यह पोस्ट My Mother Essay In Hindi अच्छा लगा है और इससे आपको कुछ जानने को मिला है और लगता है यह जानकारी अन्य लोगो को मिलनी चाहिये तो इसे आप Social Media पर जरूर Share कीजिये जिससे इसकी जानकारी और भी लोगो को मिले और वो भी जान सके समय के महत्व के बारे में….


यदि आपके मन में कोई सवाल है मेरी इस पोस्ट My Mother Essay In Hindi से तो comment करके जरूर बताये मै उसका जवाब देने की पूरी कोशिश करूंगा …

You May Also Like These Posts