Tongue Twisters In Hindi – Educational Dose

नमस्ते दोस्तों कैसे हैं आप, एक बार फिर से स्वागत आपका Educational Dose के इस नये पोस्ट ( Tongue Twisters In Hindi ) में, आज आप पढेंगे Tongue Twisters किसे कहते हैं ? और इसके उदाहरण क्या-क्या है ? इस पोस्ट ( Tongue Twisters In Hindi ) को आप ध्यान से पढिएगा तो चलिए शुरू करते है |

टंग ट्विस्टर्स का अर्थ

( जल्दी-जल्दी द्रुत गति से कहा हुआ वाक्य) कुछ ऐसे शब्द होते हैं ,जिन्हें आप जानबूझकर भी सही नहीं बोल पाते। हम सभी ने अपने बचपन में देखा होगा कि ,जब भी कोई बच्चा नया-नया बोलना सीखता है तो वह कोई भी शब्द जल्दी साफ नहीं बोल पाता ,उसकी बातों में कुछ तुल्तुलाने की आहट होती है। वह एकदम सही शब्द नहीं बोल पाता।

इस प्रकार आपने भी आजमाया होगा कि जो शब्द आप सही नहीं बोल पाते और फिर वह शब्द दूसरे बच्चों या लोगों पर आजमाते हैं। जैसा कि आपने आमिर खान की मूवी में देखा होगा उसमें वह कैसे ‘कच्चा पापड़ पक्का पापड़ ’की रट लगाता है ।
हमारे आस-पास भी ऐसी प्रकार की कोई ना कोई चीज जरूर होगी, जिसे हम अपनी जुबान की परीक्षा भी लेते हैं ,एवं साथ ही साथ आनंद भी।

अंग्रेजी में तो इसे ‘टंग ट्विस्टर ’कहते हैं, परंतु हमारी हिंदी भाषा यानी आम बोलचाल की भाषा मे इसे ‘जीभ अमेठुआ’ भी कह सकते है ।

टंग ट्विस्टर की परिभाषा

अगर हम टंग ट्विस्टर की परिभाषा की बात करें तो इसकी परिभाषा अभी तक तो कहीं नहीं मिली है, परंतु हमें इसे इस तरह से परिभाषित कर सकते हैं जैसे–ऐसे शब्द जो हमारे जीभ को बोलते समय घुमा या मोड़ दें, टंग ट्विस्टर यानी‘ जीभ अमेठुआ’ कहलाते हैं।

टंग ट्विस्टर ‘जीभ अमेठुआ ’क्या है ?

यदि हम इसे सामान्य भाषा में कहें तो, जब एक ही तरह के शब्द को उल्टा पुल्टा करके बोला है या बनाया जाता है और उसे जल्दी-जल्दी बोलने से उन शब्दों में गलती की संभावना बढ़ने लगती है और इसे बोलने वाला एक प्रकार से हंसी या मजाक का पात्र बन जाता है ,तो उसे ‘टंग ट्विस्टर’ या ‘जीभ अमेठुआ’ कहते हैं।

अगर हम दोनों को मिला दे तो टंग ट्विस्टर कुछ ऐसी चीज हुई जो आपकी जीभ को बोलते समय मरोड़ दे। साधारण भाषा में जब शब्दों के जाल को इस प्रकार बुना जाता है कि उसे आसानी से ना बोल पाए तो इस स्थिति में ही टंग ट्विस्टर का जन्म होता है।

टंग ट्विस्टर के लाभ या फायदे

कुछ ऐसे शब्द का उच्चारण करते समय प्रत्येक व्यक्ति हकला जाता है। इन शब्दों के सहयोग से हमारे दिमाग की कसरत अच्छे से हो जाती है, तथा ऐसे कठिन शब्द को बार-बार दोहराने या बोलने से हमारे शब्दों का उच्चारण सही हो जाता है, और उसके दौरान मस्तिष्क अच्छे से काम करता है, साथ ही साथ यह हमारे शब्दों की धारा को बेहतर बनाते है।
जरूरी नहीं कि हर चीज हमें फायदा ही प्रदान करें कुछ चीजें ऐसी होती हैं जो हमें फायदा दे या ना दे परंतु कोई ना कोई सीख जरूर दे देती हैं।

यदि हम टंग ट्विस्टर की बात करें तो इसके अनगिनत फायदे हम ले सकते हैं जैसे

  • इससे आपकी हिंदी के उच्चारण में ज्यादा से ज्यादा पकड़ बनेगी।
  • इससे आपकी बोलने की क्षमता में वृद्धि होगी।
  • इसे आप एक तरह से खेल के रूप में भी अपने परिवार के साथ खेल सकते हैं ।इससे या भी फायदा है कि ,आपका आपके परिवार के साथ कुछ पल हंस बिता भी सकते हैं।
  • अगर आप इसे अपने बच्चों के साथ भी खेलते हैं, तो इसमें आपके साथ-साथ आपके बच्चों के शब्द उच्चारण एवं बोलने की क्षमता में वृद्धि होगी।
  • इसके द्वारा कहीं ना कहीं आप संस्कृति से तथा संस्कृति आप से जुड़ जाती हैं।

Also Read

टंग ट्विस्टर के कुछ अन्य उदाहरण

  • कच्चा पापड़ पक्का पापड़।
  • समझ समझ के समझ को समझो, समझ समझना भी एक समझ है, समझ समझ के जो ना समझे ,मेरे समझ से वह नासमझ है।
  • जो हंसेगा वह हंसेगा ,जो फसेगा वह हंसेगा।
  • पके पेड़ पर पका पपीता, पका पेड़ या पका पपीता पके पेड़ को पकड़े पिंकू, पिंकू पकड़े पका पपीता।
  • मरहम भी गए मरहम के लिए ,मरहम ना मिला हमदम से गए ,हमदम के लिए हमदम से गए।
  • डाली डाली पर नजर डाली, किसी ने अच्छी डाली किसी ने बोरी डाली ,जिस डाली पर मैंने नजर डाली वहीं डाली किसी ने तोड़ डाली।
  • लपक बबुलिया लपक , अब न लपकबे त लपक्बे कब।
  • चार कचरी कच्चे चाचा चार कचरी पक्के ।
  • तोलाराम ताला तोल के तेल में तुल गया ,तुला हुआ तोला ताले के तले हुए तेल में तला गया ।
  • खड़क सिंह के खड़कने से खड़कती हैं खिड़कियां, खिड़कियों के खड़कने से खड़कता है खड़क सिंह।
  • जोजो को खोजो, खोजो जो जो को, जो जो को जो ना खोजे तो ,खो जाए जो जो।
  • डबल बबल गम, बबल डबल ।
  • ऊंट ऊंचा ऊंट की पीठ ऊंची, पूंछ ऊंट की।
  • मदन मोहन मालवीय मद्रास में मछली मारते मारते मरे ।
  • चंदू के चाचा ने चंदू की चाची को, चांदनी चौक में चांदनी रात में ,चांदी की चमक से चटनी चटाई।
  • चंदा चमके चम चम चीखे चौकन्ना चोर ,चीनी चाटे चीनी चटोरी चीनी खोर। लाल गोपी गोपाल गो पंगम दास।
  • कच्चा कद्दू पक्का कद्दू ।
  • नदी किनारे हैं किराने की दुकान।
  • रोटी खा के पॉटी जाओ पॉटी जा के रोटी खाओ।
  • राधा की बुनी में नींबू की धारा।
  • चाचा के चूड़े चबूतरे पर चील ने चूहे को चोंच से दबा डाला ।
  • शरद चंद मकरन मकरण शकर मंद।
  • अब कूद रस्सी ,रस्सी कूद अब ,मत गिर पड़।
  • लाली बोली लालू से लल्लन लाया था लालू की शादी में लाल लाल लिफाफे में लड्डू ।
  • शनिवार को सही समय पर शहद सही पहुंचाना, सही समय पर शहद ना पहुंचा साल भर शर्माना।
  • मत हस– हस मत, मत फस –फस मत।
  • चार चोर चार छाते में चार आचार चाटे, चाट कर छाता चोर चुराकर भागे।
  • ले नियम दे नियम, दे नियम ले नियम।

अन्य छोटे शब्दों के टंग ट्विस्टर

  • गुड्डी के बाल गुड्डी के गाल ।
  • फासले का फासला ।
  • चटाई पर चटनी चटाई ।
  • भालू काला ,आलू भूरा ।
  • नीला अंगूर, काला अंगूर।
  • उड़ी चिड़ी ऊंची उड़ी सब्जी पूड़ी ठंडी पड़ी।
  • गोल में गप्पा, गप्पे में गोला।
  • आले में अलमारी, काली अलमारी।
  • छल्ले में छल्ला ,छज्जे पे कच्चा ।
  • लकड़ी पर चकरी, चकरी में लड़की ।
  • टैंची में कैंची टैंची पे कैंची ।

कुछ अन्य विद्यार्थियों के टंग ट्विस्टर

  • कोका कोला कोकिला का किला।
  • पानी में पकौड़ी ,कचोरी की चटोरी।
  • कच्चा पापड़ पक्का पापड़।
  • चांदनी रात में चार चुडैल चुरकी पकड़ कर चुटुर चुटुर चना चबाए ।
  • नीली रेल लाल रेल, नीली रेल लाल रेल।
  • काला कबूतर सफेद तरबूज ,काला तरबूज सफेद कबूतर।
  • कच्ची रोटी खा कर रोती, रोटी खाकर कच्ची रोती ।

कठिन व लंबे टंग ट्विस्टर

  • चार कचरी कच्चे चाचा।
  • चार कचरी पक्के।।
  • छठी बीमार शेख, छठी भेड़ बीमार।
  • बेटी ने कुछ मक्खन खरीदा
  • लेकिन मक्खन कड़वा था।
  • इसलिए बेटी ने कुछ बेहतर मक्खन खरीदा।
  • कड़वा मक्खन बेहतर बनाने के लिए।

हिंदी के कुछ अन्य प्यार भरे टंग ट्विस्टर

  • डाली डाली पर नजर डाली, किसी ने अच्छी डाली किसी ने बुरी डाली ,जिस डाली पर मैंने नजर डाली
  • वह डाली किसी ने तोड़ डाली ।
  • जो हसेगा वो फसेगा, जो फसेगा वो हसेगा।
  • प्यार के वार से हार दूं प्यार से, प्यार को प्यार दो प्यार से प्यार से।
  • प्यार की वजह से वजह है प्यार के प्यार के प्यार की वजह है प्यार के।
  • चंदा चमके चम चम चीखे चौकन्ना चोर , चिटी चाटे चीनी चटोरी चीनी खोर ।
  • राम का राज ने राज की बात राज को बताया ।

निष्कर्ष

वैसे तो हम खुद ही एक टंग ट्विस्टर बना सकते हैं ,या कोई बहुत बड़ी बात नहीं है क्योंकि इसको बनाने के लिए आपको कोई स्नातक या अन्य डिग्री की जरूरत नहीं होती है ।यह बस आपके दिमाग में इस तरह के वाक्यांश बनाने की क्रिया विधि होनी चाहिए ।
आमतौर पर इनका प्रयोग हंसी मजाक और हल्की-फुल्की पलों के लिए किया जाता है ।आप किसी पार्टी के फंक्शन में वहां मौजूद लोगों को इन्हीं शब्दों को जल्दी-जल्दी बोलने का चैलेंज दे सकते हैं। यह चैलेंज रखकर आप विजेता को कोई उपहार देकर उसका उत्साह वर्धन भी कर सकते हैं।

मुझे आशा है दोस्तों की आप को आज का ये पोस्ट ( Tongue Twisters In Hindi ) पसंद आया होगा | यदि आपको मेरा यह पोस्ट ( Tongue Twisters In Hindi ) अच्छा लगा है, और इससे आपको कुछ जानने को मिला है, और लगता है यह जानकारी अन्य लोगो को भी मिलनी चाहिये तो इसे आप Social Media पर जरूर Share कीजिये जिससे इसकी जानकारी और भी लोगो को मिले और वो भी जाने Tongue Twisters के बारे में….


यदि आपके मन में कोई सवाल है मेरी इस पोस्ट( Tongue Twisters In Hindi ) से तो comment करके जरूर बताये मै उसका जवाब देने की पूरी कोशिश करूंगा …

Leave a Reply

Your email address will not be published.