Vikari Shabd Kise Kahate Hain

नमस्ते दोस्तों कैसे हैं आप, एक बार फिर से स्वागत आपका Educational Dose के इस नये पोस्ट ( Vikari Shabd Kise Kahate Hain ) में, आज आप पढेंगे की विकारी शब्द किसे कहते हैं ? और इसके उदाहरण क्या-क्या है ? इस पोस्ट ( Vikari Shabd Kise Kahate Hain ) को आप ध्यान से पढिएगा तो चलिए शुरू करते है |

कौन से शब्द विकारी होते हैं ?

वह शब्द जो लिंग वचन कारक आदि से विकृत हो जाते हैं ,विकारी शब्द कहलाते हैं ।जैसे–मैं ,मुझे, मेरा, अच्छा अच्छे आदि।

विकारी शब्द का अर्थ

जिन शब्दों का रूप परिवर्तन होता रहता है विकारी शब्द कहलाते हैं। जैसे –कुत्ता, कुत्तों ,मैं, मुझे ,हमें ,अच्छे-अच्छे, खाता, है खाती है आदि इनमे संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण , क्रिया आदि शब्द है।

विकारी शब्द किसे कहते हैं?

विकारी शब्द वह शब्द होते है ,जिनका प्रयोग किसी वाक्य मैं होने पर इनका रूप बदल जाता है जैसे –कुत्ता, कुत्ते ,मैं ,मुझे ,हमें, इत्यादि शब्दों का रूप वाक्य के प्रयोग के अनुसार बदल जाता है।

उदाहरण–
राजस्थान एक अच्छा राज्य है वाक्य दो यहां सब अच्छे लोग रहते हैं इस उदाहरण के पश्चात दोनों वाक्यों में अच्छा शब्द के दो अलग-अलग रूप अच्छा और अच्छे हैं।

अविकारी शब्द किसे कहते हैं ?

अविकारी शब्द का शब्द होते हैं जिनका रूप कभी भी किसी भी वाक्य में प्रयोग करने पर नहीं बदलता यह ऐसे शब्द होते हैं जिनका रूप लिंग, वचन ,काल ,कारक, के आधार पर नहीं बदलता अविकारी शब्द कहलाते हैं, और अविकारी शब्द के उदाहरण किंतु, यहां, नित्य, इत्यादि है ।

आविकारी शब्द को क्रियाविशेषण, संबोधन ,समुच्चयबोधक ,और विस्मयादिबोधक चार भागों में बांटा गया है।

विकारी शब्द के कितने भेद होते हैं ?

विकारी शब्द के चार भेद होते हैं

संज्ञा, सर्वनाम, क्रिया ,विशेषण।

संज्ञा

मुख्य लेख–किसी व्यक्ति वस्तु स्थान तथा गुड के नाम को संज्ञा कहते हैं।

सर्वनाम

मुख्य लेख–सर्वनाम के शब्दों होते हैं जो संज्ञा के स्थान पर वाक्य में आते हैं। इससे संज्ञा की पुनरावृति नहीं होती है।

विशेषण

मुख्य लेख–संज्ञा सर्वनाम की विशेषता बताने वाले शब्द को विशेषण कहते हैं।

क्रिया

मुख्य लेख–क्रिया वह शब्द है जिससे किसी कार्य के करने या होने का बोध होता है।

Also Read

Indian Woman Essay In Hindi

Life Is Struggle In Hindi

विकारी और अविकारी शब्द में अंतर

विकारी शब्द

विकारी शब्द लिंग, वचन, कारक, पुरुष ,काल ,आदि से रूपांतरित होते रहते हैं। इसके अंतर्गत संज्ञा ,सर्वनाम, विशेषण, क्रिया, आते हैं जैसे– लड़का जाता है, लड़की जाती है, यहां दोनों पद विकारी हैं।

अविकारी शब्द

वह सब जो कभी भी किसी भी परिस्थिति में अपने रूप को नहीं बदलते अविकारी शब्द कहलाते हैं ।इसके अंतर्गत क्रिया विशेषण ,संबंध बोधक ,समुच्चयबोधक, विस्मयादिबोधक ,उपसर्ग, आदि शब्द आते हैं जैसे वाह अभी जाएगी रेखांकित पद हैं।

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में आपने विकारी शब्द एवं अविकारी शब्द को समझा है ।यह सब दो प्रकार के होते हैं विकारी शब्द का रूप वाक्य में प्रयोग करने पर परिवर्तित हो जाता है ,जबकि दूसरी ओर अविकारी शब्द का रूप कभी भी किसी भी वाक्य में परिवर्तित नहीं होता है।

मुझे आशा है दोस्तों की आप को आज का ये पोस्ट ( Vikari Shabd Kise Kahate Hain ) पसंद आया होगा | यदि आपको मेरा यह पोस्ट अच्छा लगा है, और इससे आपको कुछ जानने को मिला है, और लगता है यह जानकारी अन्य लोगो को भी मिलनी चाहिये तो इसे आप Social Media पर जरूर Share कीजिये जिससे इसकी जानकारी और भी लोगो को मिले और वो भी जाने विकारी शब्द के बारे में….


यदि आपके मन में कोई सवाल है मेरी इस पोस्ट( Vikari Shabd Kise Kahate Hain ) से तो comment करके जरूर बताये मै उसका जवाब देने की पूरी कोशिश करूंगा …